Call Us: +91-93092 66666

Welcome to Bhavya Foundation

‘Bhavya Foundation', is a Non-Government, charitable, Social Organization registered under Devasthan Deptt, Govt. of Rajasthan striving hard for a vigilant society. Our Founder Mr. Bajrang Saharan an MBA and an entrepreneur created this Foundation and he is committed to grassroots development activities that engage and involve communities to improve the quality of Education, basic health facilities, encouraging

sports, environment protection, empowerment, animal welfare & complete social & economical development. Its a group of youths to help society as a volunteer to help unprivileged families, we encourage youth to come together as a volunteer to change unsustainable society.

#26फ़रवरी2017 : #वीर_सावरकर_बलिदान_दिवस_व_हिंदु_समागम_भादरा: सावरकर सुनते ही ज़हन में आया होगा कौन है ?? ये वही सावरकर है जिसने 13 वर्ष की आयु में भारतवर्ष को आज़ाद करने का स्वप्न संजोया, सर्वप्रथम जिसने ब्रिटेन में "India house" की स्थापना की, प्रथम भारतीय जिन्होंने भारतीय ध्वज विदेश में लहराया, जिसने सर्वप्रथम विदेशी कपड़ों की होली जलाई, जिसने हरिजनो को मंदिर का पुजारी बनाया, जिसने हमारे राष्ट्रीय ध्वज में धर्मचक्र दिया, जिसने 1857 को स्वतन्त्रता संग्राम का नाम दिया , जिसको आजीवन उम्र क़ैद दी गई, पहला भारतीय जिसने पुरण स्वतंत्रता शब्द दिया, पहला भारतीय सपुत जिसका मुक़दमा अंतरराष्ट्रीय अदालत में चला , जिसने भारत को #हिंदुतव शब्द दिया, इस अभागे देश में जिस महापुरउष की अवहेलना जीते जी तो हुई ही हुई बल्कि मरणोपरांत भी हुई, जिसने भगत सिंह, सुखदेव व राजगुरउ को फाँसी से रोकने का प्रयत्न किया व इनकी हत्या के लिए मुल कारक गांधी जी का विरोध भी किया, जिसने देश के लिए संमुदर में छलाँग लगाई, जिसने कविता के सहारे राष्ट्र प्रेम की आग को पुरे देश में धधका दिया, जिसने समूचे हिंदु समुदाय को एक धागे में पिरो दिया, जिसने देश की खंडित अवस्था की ज़िम्मेवार जिन्ना की मुस्लिम लीग का विरोध किया, जिसने शिवाजी को अपना आदर्श मान कर राष्ट्र निर्माण के सिद्धांत पे बल दिया, जिसको 2 जीवन का कारावास अंग्रेज़ों ने दिया, जिसने स्वदेशी का नारा भारत को दिया, पहला भारतीय जिसकी बैरिस्टर की उपाधि छिन ली गई, जिसकी लिखी पुस्तक को छपने से पहले अंग्रेज़ों ने प्रतिबंध लगा दिया, पहला भारतीय जिसने काल कोठरी में पत्थरों से देश प्रेम की कविताएँ लिखी। चित्र में वकताओ की सुची जल्द दी जाएगी/ समय व कार्यक्रम स्थल में बदलाव आ सकता है, देश की एकता व अखंडता हेतु कुछ सांस्कृतिक प्रस्तुतियाँ तमिलनाडु , गुजरात व राजस्थान के कलाकारों द्वारा दी जाएगी । कार्यक्रम रूपरेखा - वीर सावरकर का हिंदुत्व दर्शन , राष्ट्रवाद व् अखंड भारत की परिकल्पना, गोवंश संवर्धन - बजरंग जी शेखावत, प्रकर्ति व् मनुष्य - अयोध्या प्रशाद , अध्यात्म व् विज्ञानं - बालयोगी संत जुगल जी , सीमावर्ती क्षेत्रो में साम्प्रदायिक तनाव - सागर महलावत (ए बी वी पी), गीता सार Chief Guest - Shaitan singh ji , MLA , Pokhran Main Speaker - Kailash ji meghwal , Minister BJP

Read More

Picture Gallery

Media

  • “Lorem ipsum dolor sit amet, consectetur adipiscing elit. Mauris interdum velit vitae nulla molestie eu commodo nulla dapib us. Donec id sollicitudin urna. Integer at dui ac leo fermentum varius eleifend ut.”

    Jane Hunt